Today's Top News

img
भोपाल, 23 जनवरी (हि.स.)। इंदौर से भोपाल आ रहे किसान नेता एवं कृषि मंत्री कमल पटेल का शनिवार सुबह भोपाल हाईवे के जावर रोड जोड़ पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने घेराव कर दिया। कृषि मंत्री इस घेराव के चलते यहां रुके और किसानों की चौपाल लगाकर कृषि कानूनों के फायदे बताने लगे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का यह जत्था कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन के लिए भोपाल जा रहा था। घेराव के चौपाल में बदल जाने पर प्रदर्शनकारियों ने कृषि कानूनों को लेकर अपनी जिज्ञासाओं और आपत्तियों को लेकर सवाल किए। कृषि मंत्री कमल पटेल ने विस्तार से उदाहरण देते हुए बताया कि कृषि कानूनों से किसानों को वह फायदा भी मिलेगा जो अब तक केवल व्यापारी उठाते रहे हैं। कृषि मंत्री पटेल ने हाईवे के रेस्टोरेंट पर चिप्स और इसी तरह के अन्य उत्पादों के पाउच लेकर उनकी कीमतों की कृषि उत्पादों के मूल्य से तुलना करते हुए बताया कि किसान फसल उगाने के साथ इस तरह के उत्पाद स्वंय तैयार कर एमआरपी पर बेच सकता है। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि अब तक किसानों को यह सुविधा नहीं थी इसलिये वह केवल फसल उगाने और बेच देने तक सीमित थे, किसानों को उनकी उपज का पर्याप्त दाम नहीं मिल रहा था इसलिये खेती लाभ का धंधा नहीं बन पा रही थी। उन्होंने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों और प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना से किसानों को अब खेती के साथ व्यापार करने का अवसर मिलेगा, जिससे उनकी आय बढ़ेगी और देश का किसान समृद्ध होगा। भोपाल में कांग्रेस पार्टी का नए कृषि कानूनों को लेकर राजभवन का घेराव करने जा रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कृषि मंत्री कमल पटेल ने अपने तर्कों से निरुत्तर कर दिया। घेराव करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ता किसान नेता कमल पटेल द्वारा बताए गए तर्कों पर सहमति जताते हुए नजर आए। कृषि मंत्री ने कहा कि राजनीतिक स्तर पर सहमति और विरोध अपनी जगह है लेकिन बात जहां किसानों के फायदे की हो हम सभी को साथ आना चाहिए।
Adv

You Might Also Like