img
माजुली (असम), 20 फरवरी (हि.स.)। विश्व के सबसे बड़े नदी द्वीप व वैष्ण संस्कृति का प्राण स्वरूप माजुली वासियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल का आभार जताने के लिए हजारों की संख्या में मिट्टी के दीपक जलाए। उल्लेखनीय है कि देश की आजादी के बाद से अब तक माजुली देश के अन्य हिस्सों से सड़क मार्ग से कटा हुआ था। यहां पर पहुंचने के लिए नदी मार्ग से ही जाना पड़ता था। यहां के लोग लंबे समय से पुल निर्माण की मांग करते आ रहे थे। माजुलीवासियों के सपने को साकार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोरहाट जिला के निमाती घाट से माजुली को जोड़ने के पुल के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। साथ ही माजुली के विकास के लिए अनेकों योजनाओं का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री के इस कदम से माजुली वासी बेहद उत्साहित हैं। ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल भी माजुली से विधायक चुने गये हैं इसलिये असम सरकार की ओर से भी माजुली के विकास के लिए अनेकों कदम उठाये गये हैं। सोनोवाल सरकार के सत्ता में आने के बाद माजुली को जिला के रूप में मान्यता मिली। इसको देखते हुए माजुली वासियों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का आभार जताने के लिए शुक्रवार की शाम को हजारों की संख्या में दीप जलाए। स्थानीय लोगों का कहना है कि भाजपा नेतृत्वाधीन केंद्र और राज्य सरकार ने माजुली के लिए जो कदम उठाये हैं, उसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए वह कम है
Adv

You Might Also Like