Adv
adv Ftr

यूपीए सरकार बनने पर जीएसटी को संशोधित कर किया जाएगा लागू-पी चिदंबरम

गुवाहाटी, 09 नवंबर (हि.स.)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र में यूपीए की सरकार का गठन होने के बाद जीएसटी को पुनः नए रूप में संशोधित कर लागू किया जाएगा। ये बातें शुक्रवार को असम प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए पी चिदंबरम ने कही।
उन्होंने कहा कि विमुद्रीकरण के चलते देश की अर्थनीति बुरी तरह से प्रभावित हुई है। उन्होंने कहा कि एनडीए शासित केंद्र और राज्य सरकार पूंजी आवंटन को 70/30 या 60/40 के अनुपात में करने की जो व्यवस्था लागू की है, उससे बेहतर विशेष राज्य का दर्जा था। लेकिन, एनडीए सरकार ने इस व्यवस्था को बदलकर राज्यों को विशेष क्षति पहुंचाई है।
वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने कहा कि भाजपा नीत गठबंधन सरकार भारतीय रिजर्व बैंक को महत्व नहीं दे रही है। जिसके कारण देश की अर्थनीति बुरी तरह से प्रभावित हुई है। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक से कोई भी सरकार पैसे की कभी मांग कभी नहीं की थी। पी चिदंबरम ने कहा कि आगामी 19 नवंबर को होने वाली रिजर्व बैंक के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में केंद्र सरकार एक लाख करोड़ रुपए जारी करने का निर्देश दे सकती है। उन्होंने कहा कि एक लाख करोड़ रुपए की मांग करने का अर्थ साफ तौर पर नजर आता है कि विमुद्रीकरण के कारण देश में क्या हालात पैदा हुए हैं।
पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने कहा कि विमुद्रीकरण के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। उन्होंने भाजपा सरकार से सवाल किया कि भाजपा का वादा क्या हुआ? प्रत्येक वर्ष दो करोड़ लोगों को नौकरी देने का भाजपा सरकार ने आश्वासन दिया था, क्या हुआ? किसानों की आय को दोगुना करने का वादा किया था, उसका क्या हुआ? अत्यावश्यक खाद्य सामग्री, पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस की कीमतों में कमी लाने का वादा किया था, क्या हुआ? यूएस डॉलर का मूल्य 40 रुपये से नीचे करने का भाजपा ने वादा किया था, क्या हुआ? उग्रवादी समस्या के समाधान की भी भाजपा ने बात कही थी, क्या हुआ? इसके अलावा जीडीपी की ग्रोथ को दोगुना करने का भी भाजपा ने आश्वासन दिया था उसका क्या हुआ? 
उन्होंने कहा कि भाजपा के ये तमाम वादे सिर्फ वादे बनकर रह गए। इतना ही नहीं भारतीय रिजर्व बैंक को भी भाजपा सरकार ने निशाने पर लिया है। भाजपा नीत गठबंधन सरकार के इन तमाम कदमों के चलते आज देश की अर्थव्यवस्था बेहद जर्जर हो चुकी है। इसलिए भाजपा को हर हालत में सरकार से बाहर का रास्ता दिखाना होगा। ज्ञात हो कि इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा, पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई समेत अन्य कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे। ज्ञात हो कि पी चिदंबरम गुवाहाटी में आगामी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी पदाधिकारियों के साथ विशेष बैठकर रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से गुवाहाटी पहुंचे हैं।