Adv
adv Ftr

साइकिल पर सवार होकर समाज बदलने का अभियान

 

बरौनी के युवाओं की अच्छी पहल, हर रविवार को साइकिल सवारों का जत्था करता है सामाजिक काम 
विशेष ... बेगूसराय, 08 अगस्त (हि.स.)। 'मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर, लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया।' सच में आज साइकिल पर संडे के पीछे एक कारवां है, और यह कारवां बच्चों से लेकर युवाओं तक का है, जिनका नारा है साइकिल पर संडे-एवरी संडे, हर रविवार-साइकिल पर सवार, पेड़ लगाओ-पर्यावरण बचाओ, बुजुर्गों का करो सम्मान-युवाओं का बढ़ेगा मान। कुछ ऐसे ही नारों के साथ 19 अक्टूबर 2014 को आकाशगंगा रंग चौपाल एसोसिएशन बरौनी के संयोजक डॉ कुंदन कुमार, सचिव गणेश गौरव और सदस्य राधे कुमार ने मिलकर स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर साइकिल यात्रा शुरू की थी। 
यह साइकिल यात्रा तब चकिया से निकलकर थर्मल चौक, गुप्ता बांध होते हुए रूपनगर दुर्गा स्थान पहुंची थी और तब से यह यात्रा निरंतर जारी है। पहले रविवार को तीन और फिर उसके बाद धीरे-धीरे 30 की संख्या लगातार बनी हुई है। कभी-कभार यह संख्या 100 को भी पार कर जाती है। आखिर हो भी क्यों ना, इन युवाओं की टोली में गजब का उत्साह है। धूप, बरसात, ठंड चाहे कुछ भी हो ये हर रविवार निकलते हैं। 
साइकिल यात्रा का उद्देश्य है गांव के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना, लोगों में स्वच्छता का संदेश देना, बिजली और पानी बचाने जैसे कई और मुहिम के साथ ये गांव जाते हैं। गांव के लोगों से अपनी लोक संस्कृति को बचाने की गुजारिश करते हैं। गांव के बुजुर्गों के सम्मान के लिए बात करते हैं। रविवार को टीम जिस रास्ते निकल जाती है वहां बच्चे, नौजवान, बूढ़ों की जुबां पर यह शब्द आता है कि ये साइकिल पर संडे वाले हैं। आखिर हो भी क्यों न, इनका यह प्रयास मूसलाधार बारिश, कंपकंपाती ठंड या फिर तपती धूप में भी कभी नहीं रूका है। 
साइकिल पे संडे-एवरी संडे में अब तक 100 से अधिक गांवों का भ्रमण कर चुके संयोजक डॉ कुंदन कहते हैं कि साइकिल यात्रियों ने अब तक अशोक धाम, लखनपुर दुर्गा स्थान और जयमंगलागढ़ की अधिकतम दूरी तय की है। खासकर सरकार द्वारा चलाये जा रहे स्वच्छता अभियान, मतदाता जागरुकता, गंगा सफाई अभियान में भी इन लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है। इस टीम के द्वारा लगाए गए 200 से अधिक पौधे अब वृक्ष का रूप ले रहे हैं। खासकर बीहट पोखर, बड़ी दुर्गा मंदिर परिसर, एफसीआई परिसर और उर्वरक नगर स्थित भारतेश्वर मंदिर का परिसर इसका प्रमाण है। 
अभियान में शामिल सुजीत कहते हैं कि टीम के हर युवा इसे अपना कार्यक्रम समझते हैं। खासकर पेशे से शिक्षक अधिवक्ता प्रशांत कुमार, विनोद भारती, दिनेश मालाकार, गोपाल कुमार, स्वच्छता अभियान के प्रखंड समन्वयक सुजीत कुमार, छात्र अंशु कुमार, गोविंद कुमार, सौरव कुमार, रोशन कुमार, अविनाश कुमार, शुभम कुमार, राम गोविंद, सूरज, पूजन, संतोष सहित ऐसे कई युवक और छात्र हैं जो इस कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे हैं। 
अभियान में शामिल अंशु कहते हैं कि यह कोई जरूरी नहीं है कि वरिष्ठ साथी आएं, तभी साइकिल यात्रा निकलती है बल्कि निर्धारित समय पर चाहे संख्या पांच हो या 50, हम साइकिल यात्री अपने गंतव्य स्थल की ओर निकल पड़ते हैं। 12 अगस्त को साइकिल पर संडे 200 सप्ताह पूरा करने जा रहा है। इसे उत्सव के रूप में मनाया जा रहा है तथा इस दिन दो हजार से अधिक साइकिल यात्री के भाग लेने की संभावना है। 200वीं साइकिल यात्रा महात्मा गांधी उच्च विद्यालय बीहट से सुबह 6:30 बजे निकलकर बीहट नगर परिषद का भ्रमण करते हुए मसनदपुर, जीरोमाइल के रास्ते पुनः महात्मा गांधी उच्च विद्यालय बीहट में आकर संपन्न होगी।

Todays Headlines