28dl_m_616_28062022_1

vivadit purane asptaal ka prashasan ne kiya nirikshan

फतेहपुर: नायब तहसीलदार ने गुमराह करने पर ईओ को लगाई फटकार

फतेहपुर, 28 जून (हि.स.)। जिले में मंगलवार को न्यायालय के आदेश पर उप जिलाधिकारी के निर्देश पर नायब तहसीलदार मौके पर पहुंच कर पुराने अस्पताल में अवैध कब्जे की शिकायत का निरीक्षण किया। मामले पर नायब तहसीलदार सिद्धांत सिंह ने अवैध कब्जा की शिकायत कर गुमराह करने पर ईओ को फटकार लगाई। नगर पंचायत के किशनपुर रोड स्थित पुराने अस्पताल का मामला न्यायालय में विचाराधीन है। जिसकी शिकायत की थी कि प्राइवेट व्यक्तियों द्वारा अस्पताल में कब्जा किया गया है।

निरीक्षण के बाद नायब तहसीलदार ने बताया कि शफाखाना में प्राइवेट लोगों द्वारा कब्जा किया गया है। जिसे तत्काल प्रभाव से हटाये जाने का आदेश दिया गया। मामले पर नायब तहसीलदार सिद्धांत सिंह ने गुमराह करने पर ईओ को फटकार लगाई। शफाखाना की देखरेख के लिए डाक्टर अजय सिंह को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

मालूम हो कि जमीदारों ने शफाखाना के नाम से अस्पताल सौ साल की लीज पर दिया था, लेकिन 1904 में 100 वर्ष पूरे हो जाने के बाद अस्पताल की जमीन में दो पक्षों की ओर से न्यायालय में वाद दायर कर दिया गया। समाजवादी पार्टी की सरकार के समय में पूर्व सांसद राकेश सचान व वर्तमान में प्रदेश सरकार के मंत्री के समय महिला अस्पताल का निर्माण किया जाना था लेकिन मामला न्यायालय में विचाराधीन होने की वजह से शफाखाना में महिला अस्पताल का निर्माण नहीं हो सका और आज तक मामला न्यायालय में विचाराधीन है। अस्पताल में कब्जे को लेकर कई बार मामला जिलाधिकारियों की चौखट तक पहुंचता रहा, लेकिन मामला न्यायालय के चलते कोई कार्रवाई नहीं हो सकी। बीते एक महीने से इस शफाखाना की जमीन को लेकर आग फिर सुलगने लगी और इस जमीन को बंजर बताकर नगर पंचायत प्रशासन अपने कब्जे में करने के लिए पहल शुरू कर दी थी, लेकिन मामला ज्यों का त्यों पडा रहा। उच्च न्यायालय के आदेश पर उप जिलाधिकारी ने नायब तहसीलदार सिद्धांत कुमार, हल्का लेखपाल शिव प्रसाद सक्सेना, कुलदीप आदि को टीम बनाकर भेजा। शिकायत थी कि प्राइवेट व्यक्तियों द्वारा कब्जा किया गया है लेकिन निरीक्षण में वहां पर पाया गया कि कोई भी प्राइवेट व्यक्ति का शफाखाना में अवैध कब्जा नहीं है। कुछ दुकानदारों द्वारा मात्र गुमटी मिली जिन्हें हटाने के आदेश दिये गये।

नायब तहसीलदार ने अस्पताल की बाउंड्री के सामने जिन दुकानदारों द्वारा दुकानें रखी गई थी उन सभी को हटाए जाने के निर्देश दिए हैं। मौके पर अधिशाषी अधिकारी लालचन्द्र मौर्य नगर पंचायत के कर्मचारियों के साथ जेसीबी लेकर मौजूद थे। वहां पर जेसीबी के माध्यम से कूड़ा करकट की सफाई भी कराई गई।

नायब तहसीलदार सिद्धांत कुमार ने बताया कि न्यायालय के आदेश पर शफाखाना का निरीक्षण किया गया है और यहां पर कोई भी प्राइवेट व्यक्ति द्वारा कब्जा नहीं पाया गया है। बाउंड्री के बाहर छोटे-मोटे दुकानदारों की गुमटी रखी हुई है। उनको हटाने के निर्देश भी दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मामला न्यायालय में है। न्यायालय के फैसले के बाद जो भी निर्णय आएगा अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।
 

vivadit purane asptaal ka prashasan ne kiya nirikshan

Comment As:

Comment (0)