undefined

Sidhu Moose Wala Murder: Shocking revelation in the Sidhu Moosewala murder case, the shooters reveal

Sidhu Moose Wala Murder: सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में चौंकाने वाला खुलासा, शूटरों ने उगला अब तक का सबसे बड़ा राज

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए शूटरों ने एक नया खुलासा किया है। सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने से पहले उसकी चार बार हत्या करने की कोशिश की गई थी। मगर अधिक भीड़ व कड़ी सुरक्षा के चलते वह सिद्धू मूसेवाला की हत्या नहीं कर पाए थे। कई बार सिद्धू मूसेवाला शूटरों के बिल्कुल पास से निकल गया था। दूसरी तरफ जांच में ये भी बात सामने आई है कि गोल्डी बराड़ ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए उसकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए निगरानी टीम भी बनाई थी। स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार प्रियव्रत उर्फ फौजी ने पूछताछ में खुलासा किया है कि लॉरेंस बिश्रोई और गोल्डी बराड़ ने करीब छह महीने पहले ही शूटरों को सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए निर्देश दे दिया था। तभी से शूटर सिद्धू की हत्या के करने के लिए उसके पीछे लग गए थे।
पंजाब में एक बार बॉलीबॉल खेल हुआ था। यहां भी शूटर सिद्धू की हत्या करने गए थे, मगर यहां भीड़ बहुत ज्यादा थी। इस कारण ये सिद्धू की हत्या नहीं कर पाए थे।
एक बार सिद्धू को पंजाब की एक कोर्ट में भी मारने का प्रयास किया गया था। शूटर कोर्ट में चले गए थे। कोर्ट में भी उस समय बहुत भीड़ थी। सिद्धू इनके पास से गुजर गया था और ये हत्या नहीं कर पाए थे। 
सिद्धू की हत्या करने से पहले कई बार रेकी की गई थी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार गोल्डी बराड़ ने पंजाबी गायक की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए निगरानी टीम भी बनाई थी। 
ये टीम गायक मूसेवाला कहां जा रहा है, किससे मिल रहा है और उसके क्या-क्या कार्यक्रम होते हैं आदि पर नजर रख रही थी। शूटरों ने पूछताछ में ये बताया है कि सिद्धू की गतिविधियों पर इसलिए नजर रखी जा रही थी कि ताकि ये पता लग सके कि सिद्धू की सुरक्षा कम होती है और सुरक्षाकर्मी कब-कब नहीं होते हैं।
इस तरह की रेकी कर सिद्धू मूसेवाला की हत्या की गई थी। दिल्ली पुलिस ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने के आरोप में सोमवार को मेन शूटर प्रियव्रत उर्फ फौजी, कशिश और पनाह देने वाले केशव को गिरफ्तार किया था। 
 

शूटरों को कोटकपूरा हाईवे के ढाबे पर दी गई थी कोरोला
गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मामले में अब तक जारी जांच में सामने आया है कि हमला करने वाले तीन शूटरों को कोरोला गाड़ी कोटकपूरा हाईवे पर बने एक ढाबे में जगरूप रूपा और मनप्रीत भाऊ ने उपलब्ध कराई थी। इन दोनों को यह काम गैंगस्टर मनप्रीत मन्ना ने गोल्डी बराड़ के कहने पर दिया था।

यह भी पता चला है कि इसी ढाबे पर शूटरों ने यह भी तय कर लिया था कि वाहन किस रास्ते से जाएंगे और वारदात के बाद किस रास्ते से इलाके से बाहर निकल जाएंगे। इस बीच दिल्ली पुलिस द्वारा पकड़े गए तीन शूटरों को भी प्रोडक्शन वारंट पर पंजाब लाकर पूछताछ करने के लिए राज्य पुलिस ने तैयारी शुरू कर दी है।


Comment As:

Comment (0)