Today's Top News

img
बलिया, 07 जून (हि.स.)। कोरोना काल में बलिया के युवाओं ने बड़ों को राह दिखाई है। कोरोना की दूसरी लहर में हर तरफ मची चीख-पुकार को सुनकर युवाओं ने अपनी परवाह न कर मदद का हाथ बढ़ाया। लोगों की मदद से लेकर वैक्सीन के प्रति जागरूक करने तक युवाओं ने अपनी भूमिका बखूबी निभाई है। उल्लेखनीय है अप्रैल के महीने में कोरोना की दूसरी लहर ने देश के बाकी हिस्सों की तरह ज़िले में भी कहर ढाया। जिले में एक दिन का सर्वाधिक 860 केसों का रिकार्ड बना। जो अब दहाई के नीचे आ गया है। जब यह आंकड़ा रोजाना पांच सौ के आसपास चल रहा था, तब अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन के लिए मारामारी थी। लोग मदद की गुहार लगा रहे थे। चारों तरफ अफरा-तफरी का आलम था। ऐसे में जिले के कुछ उत्साही युवाओं ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर कोरोना वारियर्स ग्रुप बनाकर लोगों की मदद का बीड़ा उठाया। ऑक्सीजन सिलेंडर से लेकर अस्पतालों में बेड और दवाओं के इंतजाम तक अपनी पूरी ताकत झोंक दी। ग्रुप में लोगों को जोड़कर मदद करने में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले पूर पकड़ी निवासी भानूप्रकाश सिंह बब्लू ने कहा कि जब-जब किसी सोशल मीडिया माध्यम पर लोगों को गुहार लगाते देखता, मन कचोट जाता था। एक अकेला आदमी कितनों की मदद कर सकता था। यही सोचकर कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों से बात की और व्हाट्सएप पर 'कोरोना वारियर्स' नाम से एक ग्रुप बनाया गया। जिसमें लोगों द्वारा कहीं भी की गई मदद की अपीलों को डाला जाता था। जिसे देखकर लोग मदद के लिए आगे आने लगे। इसका बहुत सार्थक परिणाम आने लगा। बताया कि हमने सैकड़ों जरुरतमन्दों की मदद की। वैक्सीन के लिए भी लोगों को जागरुक करने में जुटे हैं। कैसे वैक्सीन का स्लॉट बुक होगा और कहां-कहां इसकी उपलब्धता है, इसकी सूचना देते हैं। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से भी जुड़े रहते हैं। एमएलसी एके शर्मा ने भी बढ़ाया मदद का हाथ जिले में जिस वक्त कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही थी। लोग बेहाल थे। सरकारी इंतजाम नाकाफी साबित हो रहे थे। इसमें युवाओं ने काफी काम तो किया ही। पूर्व आईएएस और एमएलसी एके शर्मा भी दूत बनकर आए। उन्होंने जिले को न सिर्फ 50 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर उपलब्ध कराया, बल्कि गांव-गांव दवाओं के किट का वितरण भी कराया। ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर के लिए जिला प्रशासन ने उन्हें धन्यवाद भी ज्ञापित किया है। कोरोना कम हुआ बन गए रक्तदाता कोरोना की लहर सिकुड़ गई तो कोरोना वारियर्स ग्रुप से जुड़े लोग अब जिले में खून की कमी पूरी करने में लग गए हैं। कहीं से भी किसी मरीज के लिए खून की आवश्यकता होती तो ये कोरोना वारियर्स जुट जाते हैं। एक दूसरे की सहायता से फौरन खून का इंतजाम कर लेते हैं। इसमें सागर सिंह राहुल, अतुल कुमार पांडेय व धनंजय सिंह आदि युवाओं की अहम भूमिका रहती है।
Adv

You Might Also Like