Today's Top News

img
- चक्रवात के प्रभाव से राज्य में16,500 घर प्रभावित, 1,081 पोल ढहे 
- 2437 गांवों की बिजली गुल, 484 गांवों की बिजली आपूर्ति बहाल 

गांधीनगर/अहमदाबाद,18 मई (हि.स.)। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज सुबह तूफान और बारिश की स्थिति काे लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक की और बचाव व राहत कार्यों के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए। चक्रवात तौकते के प्रभाव से राज्य में अब तक तीन लोगों की मौत की खबर मिली है। इस तूफान से अब तक 16 हजार से अधिक घरों के प्रभावित होने और एक हजार बिजली पोल क्षतिग्रस्त हुए हैं।

मंगलवार सुबह मुख्यमंत्री रूपाणी राज्य आपातकालीन संचालन केंद्र पहुंचे और राज्य में विशेष रूप से 14 तटीय जिलों में रात के तूफान व बारिश की स्थिति, क्षति और सड़क बंदरगाहों आदि पर प्रभाव का विवरण प्राप्त किया और मार्गदर्शन किया। बैठक के बाद मुख्यमंत्री रूपाणी ने राजस्व विभाग के एसीएस पंकज कुमार के साथ प्रेस वार्ता की। उन्होंने कहा कि फिलहाल तूफान की रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा है। साथ ही इसका असर अहमदाबाद जिले और धोलका, धंधुका, सुरेन्द्रनगर में भी दिखना शुरू हो गया है। तूफान की स्थिति शाम तक बनी रहेगी। उन्होंने बताया कि सतर्कता से वजह से कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ है। सबसे ज्यादा चिंता कोविड मरीजों की थी। अब गुजरात से दूसरे राज्यों में ऑक्सीजन पहुंचाने में भी कोई दिक्कत नहीं है। 

राजस्व विभाग के एसीएस पंकज कुमार ने कहा कि समस्या भावनगर में ऑक्सीजन प्लांट में बिजली कटौती के कारण समस्या थी। अब बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई है। उन्होंने बताया कि 2437 गांवों में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई थी, अब तक 484 गांवों में आपूर्ति बहाल कर दी गई है। अब तक 1081 खंभे, 40 हजार पेड़ गिर चुके हैं। 196 सड़कें बंद रहीं, 16500 कच्ची इमारतें प्रभावित हुईं, जिनका सर्वे कराया जा रहा है।अन्य क्षेत्रों में भी नुकसान का सर्वेक्षण कराया जा रहा है। उन्हाेंने बताया कि वर्तमान में 35 तहसीलों में एक इंच बारिश हो चुकी है। इसके अलावा बगसरा में नौ इंच, ऊना में आठ इंच, सावरकुंडला में आठ इंच, अमरेली व आसपास के क्षेत्रों में 5 इंच बारिश हुई। बारिश और हवाओं के राज्य में अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है। जिसमें वापी, राजकोट और गारियाधार में एक एक व्यक्ति की मौत होने की खबर मिली है।
पंकज कुमार ने बताया कि सोमवार रात्रि 1.30 बजे राज्य में पूर्ण तूफान आया। बुधवार सुबह तक तूफान का असर कम होगा। अमरेली, गिर सोमनाथ, पोरबंदर, राजकोट, भावनगर और बोटाद में तेज हवाएं चल रही थीं। अहमदाबाद जिले के धंधुका के धोलका में भी हवा चली। अभी तक बहुत सीमित नुकसान हुआ है। लेकिन रात तक सतर्क रहना होगा। तूफान धीमा होने के बाद जरूरतमंदों की मदद की जाएगी।
Adv

You Might Also Like