Today's Top News

img
गांधीनगर/अहमदाबाद, 18 मई (हि.स.)। गुजरात में चक्रवाती तूफान ताउते पर राजस्व और गृह विभाग के अग्र सचिव पंकज कुमार का बयान आया है। मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि रात 9 बजे ऊना के पास तूफान का लैंडफॉल हुआ था। अब वह कम प्रभाव वाला रह गया है और सही मायनों में राज्य में उसकी पूंछ ही रह गयी है। तूफान से सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र जाफराबाद, पिपावाव, ऊना और गिर-गढ़डा हैं। पंकज कुमार के मुताबिक, तूफान की रफ्तार 150 से 175 किलोमीटर प्रतिघंटा थी। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी कंट्रोल रूम में मौजूद रहकर तूफान और बचाव कार्यों की जानकारी लेते रहे। एहतियात के तौर पर कुछ जगहों पर बिजली काट दी गई। समुद्र में लहरें 5 मीटर तक ऊंची थीं। वैसे इस आपदा में कोई हताहत नहीं हुआ। राज्य भर के 21 तहसीलों में 1 इंच से अधिक बारिश हुई है। साथ ही उन्होंने उम्मीद जतायी कि कल तक तूफान गुजर जाएगा। उन्होंने बताया कि असर कम होने के बावजूद तूफान से पैदा स्थितियों पर निगरानी जारी रहेगी। कई इलाकों में तेज हवाओं के बारिश हो रही है। कल तक तेज हवाएं चलते रहने की आशंका है। तूफान आने से ठीक पहले मुख्यमंत्री विजय रूपाणी कंट्रोल रूम पहुंच गये थे। सम्बंधित सभी अधिकारी कंट्रोल रूम में मौजूद हैं। वे आगे की सभी गतिविधि पर नजर रखेंगे। वह सभी जिला कलेक्टरों के संपर्क में भी रहेंगे। कंट्रोल रूम में अग्र सचिव पंकज कुमार, जयंती रवि, मुख्य सचिव अनिल मुकीम समेत अधिकारी मौजूद हैं| मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कंट्रोल रूम में वायुसेना के अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की। तय हुआ कि जरूरत पड़ने पर मरीजों और कोरोना में फंसे लोगों को एयरलिफ्ट किया जायेगा। कोविड अस्पतालों में भी हर तरह की सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं। तूफान के बाद पूरा गुजरात अलर्ट पर है। सभी चार्टर्ड अधिकारियों को भी विशेष अभियान सौंपा गया है।
Adv

You Might Also Like