Today's Top News

img
नई दिल्ली, 18 मई (हि.स.)। कोरोना संक्रमण काल में जहां देश के तमाम उद्योग धंधे और कारोबार ठप होने के कगार पर आ गए हैं। जेम्स एंड ज्वेलरी के निर्यात के मामले में देश को बड़ी सफलता मिलती दिख रही है। सिर्फ अप्रैल के महीने में ही भारत से 25,226.11 करोड़ रुपये के रत्न और आभूषणों का निर्यात किया गया है। ये जानकारी जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल की ओर से जारी रिपोर्ट में दी गई है। 

काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष के दौरान कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण रत्नों और आभूषणों के निर्यात पर काफी प्रतिकूल असर पड़ा था। अप्रैल 2020 में सिर्फ 273.41 करोड़ रुपये के रत्नों और आभूषणों का निर्यात किया गया था, लेकिन इस साल अप्रैल के महीने में ये निर्यात बढ़कर 25226.11 करोड़ रुपये का हो गया। 

पिछले साल रत्न और आभूषण के सेगमेंट में हुए कुल निर्यात में कट एंड पॉलिश्ड डायमंड की हिस्सेदारी 261.19 करोड़ रुपये की थी, जबकि 1.55 करोड़ रुपये के स्वर्ण आभूषणों का अप्रैल 2020 में निर्यात किया गया था। इसी तरह चांदी के आभूषणों का निर्यात कुल 5.05 करोड़ रुपये का हुआ था, वही रत्नों का आयात सिर्फ 4.23 करोड़ रुपये का हुआ था। जबकि प्लैटिनम, ब्रास और स्टोन ज्वेलरी सेगमेंट में करीब डेढ़ करोड़ रुपये का निर्यात हुआ था। 

जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल की रिपोर्ट के अनुसार इस साल अप्रैल में इस आंकड़े में कई गुना की बढ़ोतरी हो गई है। अप्रैल 2021 में कट एंड पॉलिश्ड डायमंड सेगमेंट में 16,538 करोड़ का निर्यात हुआ है। जबकि इस महीने के दौरान 5,060.23 करोड़ रुपये के स्वर्ण आभूषणों का निर्यात किया गया। इसी तरह अप्रैल 2021 में 2,240.13 करोड़ रुपये मूल्य के चांदी के आभूषणों का निर्यात हुआ। जबकि 163.66 करोड़ रुपये के रत्नों का अंतरराष्ट्रीय बाजार में निर्यात किया गया। इनके अलावा प्लैटिनम, ब्रास और स्टोन ज्वेलरी के सेगमेंट में भी पिछले साल के अप्रैल महीने की तुलना में इस साल के अप्रैल महीने में निर्यात काफी बढ़ा है। 

जेम्स एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारत में कोरोना का संक्रमण अभी काबू में नहीं आ सका है। लेकिन दुनिया के कई देशों में इसके संक्रमण पर काफी हद तक काबू पा लिया गया है। जिसके कारण वहां के बाजार भी खुलने लगे हैं। साथ ही वहां रत्न और आभूषणों की मांग भी बढ़ने लगी है। अप्रैल के महीने में हुआ 25,226.11 करोड़ रुपये का रत्न और आभूषणों का निर्यात इस बात के स्पष्ट संकेत देता है कि भारतीय रत्न और आभूषण के लिए विदेश के बाजार खुलने लगे हैं। 

निर्यात बढ़ने के कारणों में एक बड़ी वजह देशव्यापी लॉकडाउन नहीं लगना भी है। बताया जा रहा है कि इस साल कई राज्यों में कोरोना के संक्रमण पर काबू पाने के लिए पाबंदियां जरूर लगाई गईं, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन नहीं किया गया। जिसके कारण रत्न और आभूषण के कई उत्पादन केंद्रों पर अभी भी लगातार काम चल रहा है और वहां से अंतरराष्ट्रीय बाजार में ऑर्डर की आपूर्ति की जा रही है। 
Adv

You Might Also Like