img

 वेलिंगटन, 24 मार्च (हि.स.)।अमेरिका के बाद अब न्यूजीलैंड ने भी टोक्यो ओलंपिक 2020 के स्थगन की मांग की है। 


 न्यूजीलैंड ओलंपिक और पैरालिंपिक एथलीटों ने कहा है कि वे टोक्यो ओलंपिक और पैरालिंपिक खेलों को स्थगित करने का समर्थन करते हैं। 

कीवी ओलंपिक समिति के सीईओ केरेन स्मिथ ने कहा कि उन्होंने न्यूजीलैंड के एथलीट आयोग के सर्वेक्षण में एकत्रित प्रतिक्रिया का स्वागत किया और एथलीटों को उनके इनपुट के लिए धन्यवाद दिया। 

स्मिथ ने एक आधिकारिक बयान में कहा, "हमारा ध्यान सबसे पहले एथलीटों और उनके स्वास्थ्य पर है। हम उनके मांगों को महत्व देते हैं और हम जानते हैं कि बदलाव करना आसान नहीं होगा।"  

 वहीं,पैरालिंपिक्स न्यूजीलैंड के प्रमुख फियोना एलन ने कहा, "पैरालिम्पियन और पैरा एथलीटों का मानना ​​था कि पैरालम्पिक खेलों का स्थगन एक पसंदीदा विकल्प है। इन खेलों का स्थगन गंभीर रूप से कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सभी देशों के लिए एक उचित, सुरक्षित और स्तरीय फैसला होगा। 

 बता दें कि अमेरिका और न्यूजीलैंड से पहले ऑस्ट्रेलिया और कनाडा ने टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा नहीं लेने की घोषणा की थी,वहीं ब्रिटेन भी इस प्रतियोगिता में शामिल नहीं होना चाहता है। 

 इससे पहले अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सदस्य डिक पाउंड ने कहा था कि कोरोनोवायरस के कारण 2020 ओलंपिक खेलों को एक साल के लिए स्थगित कर दिया जाएगा। 

 पाउंड ने एक अमेरिकी समाचार पत्र से बातचीत में कहा, "आईओसी की जानकारी के आधार पर स्थगन का फैसला किया गया है।" उन्होंने कहा कि हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी कुछ नहीं कहा गया है,लेकिन मुझे पता है ये खेल 24 जुलाई से शुरू नहीं हो रहे हैं। 

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने इस ग्रीष्मकालीन खेलों के भविष्य पर निर्णय लेने के लिए खुद को चार सप्ताह का समय दिया है, लेकिन अनुभवी आईओसी सदस्य पाउंड का कहना है कि जल्द ही इस निर्णय की घोषणा की जाएगी।

 उन्होंने कहा"हम इसे स्थगित कर देंगे और इसे आगे बढ़ाने के सभी प्रभावों से निपटना शुरू कर देंगे।" 

 उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। दुनियाभर के कई देशों में एहतियातन लॉकडाउन लगा दिया गया है। करीब 100 करोड़ लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं। 

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या साढ़े तीन लाख से अधिक हो गई है। एएफपी के आंकड़ों के मुताबिक पिछले वर्ष के अंत में महामारी के फैलने के बाद से सोमवार तक इतने मामले सामने आए हैं। पूरी दुनिया में कम से कम तीन लाख 50 हजार 142 लोग संक्रमित हैं और 15,873 मौतें हुई हैं। इनमें से अधिकतर मामले चीन (81,093) और इटली (63,927) में सामने आए।
Adv

You Might Also Like