img

मवेशी पालकों की सुधर रही  स्थिति

धमतरी, 11 अगस्त ( हि. स.)।कोराना वायरस के चलते एक ओर लोगों को काम मिलना मुश्किल हो गया है, वहीं शासन की योजना से पशुपालकों को रोजगार मिलना किसी अचरज से कम नहीं। इस योजना में अब तक 80 पंजीकृत पशुपालक शामिल है। जो प्रतिदिन 22 से 25 क्विंटल गोठान समिति के माध्यम से गोबर विक्रय किया जा रहा है।

जिला मुख्यालय से लगभग पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम भटगांव में इन दिनों शासन की योजना अनुसार नरवा, गरुवा, घुरवा के तहत गोबर खरीदी का कार्य ग्राम पंचायत व गोठान समिति के माध्यम से किया जा रहा है। दो रुपये किलो की दर पर प्रति दिन 80 पशुपालक 22 से 25 क्विंटल गोबर विक्रय कर रहे है। समिति के अध्यक्ष मोहित देवांगन व पंचायत कर्मचारी फागूराम साहू ने बताया कि हरियाली त्योहार को शुरू हुई इस योजना के तहत पहले दिन मात्र छह पशुपालक पंजीकृत कराकर 360 किलो गोबर विक्रय किया। अब 80 पंजीकृत पशुपालक 22 से 25 क्विंटल गोबर विक्रय किया जा रहा है। जिनका भुगतान बैंक के माध्यम से सप्ताह दिनों में किया जा रहा है। मवेशी पालक रवि गजेन्द्र, सोमनाथ साहू, डोरीलाल गंजीर, हेमराज साहू, तुरियानांड साहू, भुवन सिन्हा, ईश्वर साहू, डोमार साहू, कन्हैया साहू, अर्जुन साहू, अनीता यादव, गोमती यादव, फुलाश सिन्हा, पीताम्बर ध्रुव, पतिराम देवांगन, अघनू साहू, मनाराम साहू सहित अन्य ने कहा कि गोबर खरीदने की बात हम लोग सोच भी नहीं सकते थे। गोबर खरीदी शुरू होने से आर्थिक स्थिति सुधर रही है।


गांव की हो रही सफाई


प्रभारी सरपंच जामुन बाई ध्रुव का कहना है कि गोबर खरीदी से अब गांव की सफाई स्वमेव में हो रही है। पहले एक ओर इधर-उधर गोबर पड़ा रहता था, जो अब गांव में दिखाई नहीं देता। ग्राम पंचायत सचिव दधीचि अग्रवाल ने बताया कि गांव के पत्येक वार्ड में अब गोबर देखने को नहीं मिल रहा है। जो पशुपालकों अपने पशुधन को अपने घर में न रखकर इधर उधर छोड़ देते थे, वे भी अब अपने घरो में मवेशी को रखने लगे हैं।


Adv

You Might Also Like