Today's Top News

img

नई दिल्ली, 18 मई (हि.स.)। हत्या के मामले में वांछित चल रहे पहलवान सुशील कुमार की जान को खतरा है। यह खतरा दिल्ली-एनसीआर में अभी सबसे ज्यादा सक्रिय लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी गैंग से है। यह खतरा न केवल बाहर बल्कि जेल के अंदर भी है। इस बात का जिक्र सुशील पहलवान के वकील ने जमानत याचिका में भी किया है। दरअसल, सागर की हत्या के समय जिस सोनू को उसने पीटा था वह लारेंस बिश्नोई का रिश्तेदार है।


जानकारी के अनुसार, बीते चार मई को छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के दो गुटों का झगड़ा हुआ था। आरोप है कि इस दौरान सुशील पहलवान के गुट ने तीन पहलवानों को जमकर पीटा। इस पिटाई में सागर, सोनू महाल और अमित घायल हुए थे। उन्हें उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया था, जहां कुछ देर बाद सागर ने दम तोड़ दिया। इस घटना में घायल हुए अन्य दोनों पहलवानों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई थी। इनमें से घायल सोनू महाल ने सबसे पहले सुशील पहलवान का नाम लेकर बताया कि मारपीट में वह शामिल था। इसके बाद से लगातार पुलिस उसकी तलाश में छापेमारी कर रही है।


लारेंस बिश्नोई का रिश्तेदार है सोनू महाल


छत्रसाल स्टेडियम में हुई मारपीट के दौरान जो सोनू घायल हुआ वह कुख्यात गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई का रिश्तेदार है। इसके साथ ही वह हत्या के एक मामले में काला जठेड़ी के साथ शामिल रहा है। हत्या के मामले में वह जमानत पर है। बताया जा रहा है कि सोनू की पिटाई से लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी नाराज हैं। इसके लिए वह सुशील पहलवान को सबक सिखाने का मौका तलाश रहे हैं। यही वजह है कि सुशील पहलवान की जान को इस गैंग से खतरा माना जा रहा है। यह खतरा न केवल बाहर बल्कि गिरफ्तारी के बाद जेल के भीतर भी रहेगा। लारेंस बिश्नोई जहां जोधपुर जेल में बंद है तो वहीं काला जठेड़ी थाईलैंड से ऑपरेट कर रहा है।

Adv

You Might Also Like